अ. नयी दिशा के बारे में

नयी दिशा एक ऐसा मंच है, जो उन लोगों को एक साथ लाना चाहती है जो भारत को समृद्ध बनाना चाहते हैं। इसका मुख्य उद्देश्य स्वतंत्रता,समानता और धन सृजन के एजेंडे पर नागरिकों को एकजुट करना है। नयी दिशा के 5 समृद्धि सिद्धांत और 5 शुरुआती समाधान भारत में शासन और राजनीति के लिए एक नया मॉडल तैयार करेंगे।

नयी दिशा राजेश जैन की पहल है, प्रौद्योगिकी उद्यमी और एशिया की डॉट कॉम क्रांति में अग्रणी। हमारे सदस्यों में सभी क्षेत्र और उम्र के लोग शामिल हैं - छात्र, व्यवसायी, वकील, अर्थशास्त्री, किसान, और युवा पेशेवर।

नयी दिशा का मानना है कि गरीबी भारत की नियती नहीं है। हमारा नज़रिया है भारतीयों के लिए स्थायी समृद्धि लाना, दो पीढ़ियों में नहीं बल्कि दो चुनावों के मध्य में। नयी दिशा का लक्ष्य उन कार्यों पर विराम लगाना है जो धन को नष्ट करते हैं तथा उन कार्यों को अमल में लाना है जो व्यापक स्तर पर धन सृजन को गति दे, वस्तुतः भारतीयों को समृद्ध बनाए।

हमारे निम्नलिखित सिद्धांत है:

  1. स्वतंत्रता
  2. भेदभाव न करना
  3. हस्तक्षेप न करना
  4. सीमित सरकार
  5. विकेन्द्रीकरण
हमारे प्लेटफॉर्म और घोषणा-पत्र के बारे में अधिक पढ़ें।

नयी दिशा के दो प्रमुख समाधान है - प्रत्येक भारतीय परिवारों को 1लाख रूपए लौटाना तथा वर्तमान में मौजुद सभी करों को 10 प्रतिशत के दायरे में लाना- प्रत्येक परिवार के कूल वार्षिक आय पर 1.5 लाख रूपए का लाभ पहुंचाना।

हर भारतीयों के हाथों में अधिक से अधिक धन देने से, यह उनके आसपास एक सुरक्षा कवच का कार्य करेगा, गरीबी का खात्मा होगा, रोजगार के अवसर पैदा होंगे, सरकार के विकास को रफ्तार देगा साथ ही धन सृजन के लिए भारतीयों को सक्षम बनाएगा। इस धन का सृजन सरकारी अपशिष्ट और अक्षमता को कम कर, अनावश्यक व बंद पड़े सरकारी उद्यमों को बेच तथा अप्रयुक्त तथा कम उपयोग में आने वाले संसाधनों के सही इस्तेमाल से किया जाएगा। 10 प्रतिशत कर की दर यह सुनिश्चित करेगा कि सरकारी कामकाज को सुचारू रूप से चलाने के लिए पर्याप्त है, लेकिन उनके लालच के लिए नहीं।

धन वापासी के बारे में और पढ़ें

नयी दिशा के साथ विचारशील, प्रतिबद्ध व्यक्ति शामिल हैं, जो देश की राजनीतिक कामकाज में बदलाव लाना चाहते हैं। अगर आप नयी दिशा के उद्देश्य पर विश्वास करते हैं, तो आप भी इसके सदस्य बनें औऱ भारत को संपन्न बनाने की ही हमारी मुहिम में साथ मिलकर काम करें।

हमारे विज़न का हिस्सा बनें, नई दिशा से जुड़ें

ब. घोषणापत्र

30 करोड़ से अधिक भारतीय, अत्यधिक गरीबी में रहते हैं। भारतीय परिवार की औसत आय सिर्फ 1.2 लाख प्रति वर्ष है। प्रत्येक परिवार को हर साल 1 लाख रुपये देने से लगभग आधे भारतीय परिवारों की आय दोगुनी हो जाएगी। यह ज्यादातर भारतीयों के लिए पर्याप्त धन है और इससे वे

अपनेअनुसारअपने जीवन में आवश्यक बदलाव ला सकते हैं। इसके अलावा नयी दिशा अन्य मौलिक सुधारों पर भी ध्यान दिया जाएगा। रोजगार के अवसर पैदा किये जायेंगे तथा छोटे व बड़े व्यपारियों के देश में व्यापार करना आसान कर दिया जाएगा।

खनिज संपदा और अन्य प्राकृतिक संसाधनों के संदर्भ में भारत सबसे अमीर देशों में से एक है।

विश्लेषकों का अनुमान है कि देश की कुल खनिज संपत्ति 5011 लाख करोड़ रुपये से अधिक की होगी। वहीं नयी दिशा का अनुमान है कि भारत सरकार के अधिन तकरीबन 300लाख करोड़ रुपये की अप्रयुक्त सार्वजनिक भूमि है। यदि हम खनिज संपदा के कुल मूल्य का 20 प्रतिशत भी लें, यानि कि 1000 लाख रूपये तो हमारे पास कुल 1300 करोड़ रूपए का सार्वजनिक धन जमा हो जाएगा। यह राशि इतनी है कि अगले 50 वर्षों तक प्रत्येक परिवार को 1 लाख रुपए वार्षिक तौर पर देने के ले पर्याप्त है।

किसी भी सार्वजनिक संपत्ति का मुद्रीकरण कर आम जनता को देना, कानूनी तंत्र से ज्यादा राजनीतिक इच्छा का प्रश्न है। जहां तक कानूनी प्रावधानों और नीतियों की बात है तो, सार्वजनिक धन का मुद्रीकऱण करने में किसी भी निर्वाचित सरकार के कार्यकाल में मुश्किल नहीं होता है।

2016 में 'भारत के नागरिक पर्यावरण और उपभोक्ता अर्थव्यवस्था पर घरेलू सर्वेक्षण' के अनुसार, 99% भारतीय परिवारों के पास पहले से ही बैंक में खाते हैं। सभी के बैंक खातों को आधार से जोड़ने से,सार्वजनिक संपत्ति के वितऱण के समय हम व्यक्तिगत खाता धारकों की आसानी से पहचान कर सकते हैं।

हमारी सार्वजनिक धन मुद्रीकरण रिपोर्ट पढ़ें

यह कोई जुमला नहीं है। नयी दिशा आम जनता को सार्वजनित संपत्ति लौटाने की दिशा में काम करेगी, जो वर्तमान में सरकारी नियंत्रण में होने के कारण दुरूपयोग हो रहे हैं या यू ही खाली हैं। राजेश जैन एक सफल व्यवसायी हैं जो समृद्ध भारत के लिए अपने संसाधन और समय का निवेश कर रहे हैं। नयी दिशा की टीम ने इस मुद्दे पर व्यापक शोध किया है और सार्वजनिक संपत्ति को मुद्रीकृत कर इस आम जनता को वापस करने के संबंध में विस्तृत योजना है, इसलिए हम हवा में खाली वादे नहीं कर रहे हैं।

विवरण के लिए हमारी सार्वजनिक धन मुद्रीकरण रिपोर्ट पढ़ें

कोई भी राज्य सरकार, मुफ्त में मूल्यवान संसाधन जैसे कि- भूमि आदि किसी भी उद्दयोग को नहीं देगी। जैसा कि हम सब जानते हैं, सार्वजनिक संपत्ति आम जनता की है और यदि सरकार यह भूमि किसी औऱ को मुफ्त में देती है तो वह हमारे अधिकारों का हनन कर रही है। दूसरी बात सरकारी नियमों व जटिल कानून के चलते सार्वजनिक स्त्रोतों के खरीददारों में कमी व ढ़िलाई के कारण, भारत में सार्वजनिक स्त्रोतों के खरीददारों में कमी आई है। जब लोग धनवान होंगे। जब लोग धनवान होंगे तब उन्हें व्यापार करने में आसानी होगी।

जिससे विभिन्न कंपनियों द्वारा संसाधनों की मांग भी बढ़ेगी और बेहतर तरीके से इस्तेमाल भी किया जाएगा। विदेशी देशों और कम्पनियों को भारतीयों के साथ संपत्ति खरीद के समय समनाता का व्यवहार ही करना चाहीये। क्योंकि हमारा उद्देश्य भारतीयों को अधिक से अधिक रिटर्न देना है। इसके अलावा जैसा कि हम सब जानते है राष्ट्रीय सुरक्षा में शामिल स्त्रोतों के नियमों में कुछ अपवाद भी हो सकते हैं।

जैसा कि पहले ही कहा गया है कि भारत में इतना सारा सार्वजनिक धन है कि हर साल प्रत्येक भारतीय परिवार को 1 लाख रुपए देने के बाद भी अगले 50 सालों तक धन बना रहेगा। इस धन के कुछ दशक बाद, हमें किसी भी पुनर्वितरण या कल्याणकारी कार्यक्रमों की आवश्यकता नहीं होगी क्योंकि तब तक भारतीय समृद्ध होंगे ।

नयी दिशाका लक्ष्य है कि वो देश के प्रत्येक भारतीय परिवार को प्रति वर्ष 1 लाख रुपए धन प्रदान करना जिससे भारतीयों की आर्थिक स्थिति में सुधार आएगा और अवसरों में बढोत्तरी होगी। अवसरों की कमी के कारण जो परिवार सामाजिक व आर्थिक तंगी से जूझते हैं, वो नहीं होगा।

नयी दिशाका मानना है कि सार्वजनिक धन की वापसी के साथ-साथ, भारतीय युवाओं के लिए लाखों नौकरियों का सृजन भी आवयश्क है। ये नौकरियां तब तक पैदा नहीं की जा सकती है जब तक लोगों के पास व्यवसाय शुरू करने के लिए धन न हो या व्यवसाय करने वाला माहौल न मिले। नई दिशा, अर्थव्यवस्था को उदार बनाने का प्रयास कर रही है। जिससे लोग व्यवसाय कर सकें और नये रोजगार उत्पत्न हों। इसके अलावा, लोग इस धन का उपयोग अच्छी नौकरी पाने के लिए की जाने वाली पढ़ाई पर और रोजगार कौशल पर भी कर सकते हैं।

हमारे विज़न के बारे में अधिक पढ़ें

क. लोग

नई दिशा, राजेश जैन के द्वारा की जाने वाली एक पहल है। हमारे सदस्य, हर व्यवसाय और उम्र के हैं जैसे- छात्र, बिजनेसमैन, वकील, अर्थशास्त्री, किसान और युवा पीढ़ी। इस पहल को बढ़ाने के लिए कई अन्य लीडर्स, चैम्पियन और वॉलीयंटर्स की जरूरत है। हम ऐसे लोगों को शामिल करना चाहते हैं जो हमारे देश को सम्पन्न बनाये और गरीबी दूर करें।

राजेश जैन, फाउंडर के बारे में अधिक जानिए।

हां, उन्होंने ऐसा किया। उनके प्रयासों से व्यापक जनादेश के साथ भाजपा को 2014 में जीत हासिल हुई। उन्हें उम्मीद थी कि नई सरकार लगभग सात दशकों की बुरी नीति को उलट करने और भारत को सम्पन्नता के मार्ग पर बनाए रखने के लिए मौलिक परिवर्तन करेगी। हालांकि, कई पहल की गई, लेकिन उनमें से कई पुरानी नीतियां ही थी जिन्होंने राष्ट्र को सिर्फ और सिर्फ गरीब बनाया है, उन्हीं नीतियों को नई सरकार के तहत चलाने से क्या फायदा होगा। इसलिए, राजेश ने महसूस किया कि भारत में मौजूद सभी पार्टियां, समान हैं और वो लोगों के उत्थान के लिए कुछ अलग नहीं करने वाली हैं। नए शासकों से भी ज्यादा, हमें उन नियमों में बदलाव की जरूरत है जो देश को नियंत्रित करते हैं। अपने पूरे कॅरियर के दौरान, राजेश ने हमेशा अखंडता को बनाये रखा है और उन पर कभी भी किसी प्रकार का भ्रष्टाचार का आरोप नहीं लगा है। वह सेल्फ-मेड व्यक्ति है जो कड़ी मेहनत के दम पर आगे बढ़े हैं।

राजेश समझते हैं कि भारत के युवाओं के लिए रोजगार पैदा करने हेतु, देश को सम्पन्न बनाने हेतु बिजनेस को किस तरह आगे बढ़ाना चाहिए। नई दिशा के जरिए, वह बिजनेसमैन के रूप में अपनी यात्रा को जारी रखेंगे, लेकिन ये बिजनेस राष्ट्र के निर्माण के लिए होगा न कि व्यक्तिगत हित के लिए। वह दृढ़ता से मानते हैं कि भारत में भारी बदलाव की जरूरत है और हर किसी को इस बदलाव को लाने के लिए एक राजनीतिक व्यवसायी बनना ही पड़ेगा।

राजेश समझते हैं कि भारत के युवाओं के लिए रोजगार पैदा करने हेतु, देश को संपन्न बनाने हेतु बिजनेस को किस तरह आगे बढ़ाना चाहिए। नयी दिशा के माध्यम से, वह व्यापारी के रूप में अपनी यात्रा को जारी रखेंगे, लेकिन यह व्यापार राष्ट्र निर्माण के लिए होगा। राजेश का मानना है कि भारत में बदलाव की जरूरत है और हर किसी को इस बदलाव के लिए एक राजनीतिक व्यवसायी बनना ही पड़ेगा।

नई दिशा के लिए राजेश की प्रेरणा को जानिए।

ड. सदस्यता

अगर आप मानते हैं कि गरीबी हमारा भाग्य नहीं है तो नई दिशा को ज्वाइन करें। साथ ही, अगर आपको लगता है सभी भारतीयों का परम कर्तव्य है कि भारत को सम्पन्न और आधुनिक राष्ट्र बनाये, तो नई दिशा के साथ जुड़ें।

अगर आपको हमारे सिद्धांतों पर भरोसा है तो इस परिवर्तन को लाने के लिए हमारा साथ दें और नई दिशा का हिस्सा बनें।

हमारा हिस्सा बने। वालंटियर बने

हमें खुशी है कि आपने ये प्रश्न पूछा। आप हमें कई तरीकों से अपना समर्थन दे सकते हैं:

  • यदि आप हमारे मिशन में रूचि रखते हैं, तो हमारे साथ पंजीकरण करें और सक्रिय सदस्य बनें।
  • यदि आप हमारे साथ एक नयी दिशा की ओर बढ़ने के लिए प्रेरित हैं, तो हमारे लिए स्वयंसेवक बने और हमारा संदेश अधिक से अधिक लोगों में फैलाएं, साथ ही हमारे एम्बेसडर और समुदाय के नेता बन सकते हैं।
  • नयी दिशा के सदस्य भारत के सुनहरे भविष्य के आर्किटेक्ट्स हैं। सभी स्तरों पर हमारे सदस्य निर्णय लेने और संगठन में शामिल होंगे।
अगर आप हमारे विजन पर भरोसा करते हैं, तो नई दिशा को ज्वाइन करें।

वोटर आईडी हमें विशिष्ट रूप से सदस्यों की पहचान करने और प्रत्येक निर्वाचन क्षेत्र में नई दिशा को समर्थन देने वाले लोगों के बारे में सटीक जानकारी देती है। सदस्यता पर कुल जानकारी, वास्तविक-समय में नई दिशा की वेबसाइट पर प्रदर्शित की जा सकती है।

हमारे पास आपका डेटा पूरी तरह से सुरक्षित रहेगा। डेटा को उच्च सुरक्षा के बीच रखा जाएगा। आपकी गोपनीयता हमारे लिए बहुत मायने रखती है और हम आश्वासन देते है कि इसका किसी भी प्रकार से दुरूपयोग नहीं किया जाएगा।

नई दिशा अभी ज्वाइन करें।

हां, आप ज्वाइन कर सकते हैं। नई दिशा को सपोर्ट करने के कई तरीके हैं, यहां तककि अगर आप अपनी वोटरआईडी को शेयर करना नहीं चाहते हैं, तब भी हमारे साथ जुड़ सकते हैं। इसके लिए आप ऐसा करें:

  1. सोशल मीडिया पर हमें फॉलो करें और नई दिशा के बारे में परिवारीजनों व मित्रों को बताएं और इस प्रयास को तेजी से बढ़ाएं।
  2. नई दिशा की बैठकों और आयोजनों में वॉलीयंटर बनकर या स्थानीय सहायक बनकर मदद कर सकते हैं।

जब आप नयी दिशा की मदद करते हैं तो आप अंक भी कमा सकते हैं। सभी विशेषाधिकार प्राप्त करने के लिए मतदाता आईडी महत्वपूर्ण है। जैसे ही आप अपने मतदाता आईडी के साथ साइन अप करते हैं, आपके अंक आपके अपग्रेड किए गए प्रोफ़ाइल में माइग्रेट हो जाएंगे।

हमारे विजन का हिस्सा बनें। नई दिशा अभी ज्वाइन करें।

नई दिशा, विभिन्न डिजिटल प्लेटफॉर्म जैसे - नई दिशा ऐप, ब्लॉग, फोरम और सोशल मीडिया; फेसबुक, ट्वीटर, इंस्टाग्राम, वाट्सअप आदि के जरिए अपने सदस्यों से सम्पर्क में रहेगी और समर्थन प्रदान करेगी। नई दिशा को मिलने वाला समर्थन जैसे-जैसे बढ़ता जाएगा, हम स्थानीय चैप्टर्स भी रखेंगे जो नियमित अंतराल पर मीटिंग और इवेंट को आयोजित करेंगे।

नई दिशा टीम का हिस्सा बनें। अभी ज्वाइन करें।

इ. पॉपुलर

नयी दिशा एक ऐसा मंच है, जो उन लोगों को एक साथ लाना चाहती है जो भारत को समृद्ध बनाना चाहते हैं। इसका मुख्य उद्देश्य स्वतंत्रता,समानता और धन सृजन के एजेंडे पर नागरिकों को एकजुट करना है। नयी दिशा के 5 समृद्धि सिद्धांत और 5 शुरुआती समाधान भारत में शासन और राजनीति के लिए एक नया मॉडल तैयार करेंगे।

नयी दिशा राजेश जैन की पहल है, प्रौद्योगिकी उद्यमी और एशिया की डॉट कॉम क्रांति में अग्रणी। हमारे सदस्यों में सभी क्षेत्र और उम्र के लोग शामिल हैं - छात्र, व्यवसायी, वकील, अर्थशास्त्री, किसान, और युवा पेशेवर।

नयी दिशा का मानना है कि गरीबी भारत की नियती नहीं है। हमारा नज़रिया है भारतीयों के लिए स्थायी समृद्धि लाना, दो पीढ़ियों में नहीं बल्कि दो चुनावों के मध्य में। नयी दिशा का लक्ष्य उन कार्यों पर विराम लगाना है जो धन को नष्ट करते हैं तथा उन कार्यों को अमल में लाना है जो व्यापक स्तर पर धन सृजन को गति दे, वस्तुतः भारतीयों को समृद्ध बनाए।

हमारे निम्नलिखित सिद्धांत है

  1. स्वतंत्रता
  2. भेदभाव न करना
  3. हस्तक्षेप न करना
  4. सीमित सरकार
  5. विकेन्द्रीकरण
हमारे प्लेटफॉर्म और घोषणा-पत्र के बारे में अधिक पढ़ें।

नयी दिशा के दो प्रमुख समाधान है - प्रत्येक भारतीय परिवारों को 1लाख रूपए लौटाना तथा वर्तमान में मौजुद सभी करों को 10 प्रतिशत के दायरे में लाना- प्रत्येक परिवार के कूल वार्षिक आय पर 1.5 लाख रूपए का लाभ पहुंचाना।

हर भारतीयों के हाथों में अधिक से अधिक धन देने से, यह उनके आसपास एक सुरक्षा कवच का कार्य करेगा, गरीबी का खात्मा होगा, रोजगार के अवसर पैदा होंगे, सरकार के विकास को रफ्तार देगा साथ ही धन सृजन के लिए भारतीयों को सक्षम बनाएगा। इस धन का सृजन सरकारी अपशिष्ट और अक्षमता को कम कर, अनावश्यक व बंद पड़े सरकारी उद्यमों को बेच तथा अप्रयुक्त तथा कम उपयोग में आने वाले संसाधनों के सही इस्तेमाल से किया जाएगा। 10 प्रतिशत कर की दर यह सुनिश्चित करेगा कि सरकारी कामकाज को सुचारू रूप से चलाने के लिए पर्याप्त है, लेकिन उनके लालच के लिए नहीं।

धन वापासी के बारे में और पढ़ें

हां, उन्होंने ऐसा किया। उनके प्रयासों से व्यापक जनादेश के साथ भाजपा को 2014 में जीत हासिल हुई। उन्हें उम्मीद थी कि नई सरकार लगभग सात दशकों की बुरी नीति को उलट करने और भारत को सम्पन्नता के मार्ग पर बनाए रखने के लिए मौलिक परिवर्तन करेगी। हालांकि, कई पहल की गई, लेकिन उनमें से कई पुरानी नीतियां ही थी जिन्होंने राष्ट्र को सिर्फ और सिर्फ गरीब बनाया है, उन्हीं नीतियों को नई सरकार के तहत चलाने से क्या फायदा होगा। इसलिए, राजेश ने महसूस किया कि भारत में मौजूद सभी पार्टियां, समान हैं और वो लोगों के उत्थान के लिए कुछ अलग नहीं करने वाली हैं। नए शासकों से भी ज्यादा, हमें उन नियमों में बदलाव की जरूरत है जो देश को नियंत्रित करते हैं। अपने पूरे कॅरियर के दौरान, राजेश ने हमेशा अखंडता को बनाये रखा है और उन पर कभी भी किसी प्रकार का भ्रष्टाचार का आरोप नहीं लगा है। वह सेल्फ-मेड व्यक्ति है जो कड़ी मेहनत के दम पर आगे बढ़े हैं।

राजेश समझते हैं कि भारत के युवाओं के लिए रोजगार पैदा करने हेतु, देश को सम्पन्न बनाने हेतु बिजनेस को किस तरह आगे बढ़ाना चाहिए। नई दिशा के जरिए, वह बिजनेसमैन के रूप में अपनी यात्रा को जारी रखेंगे, लेकिन ये बिजनेस राष्ट्र के निर्माण के लिए होगा न कि व्यक्तिगत हित के लिए। वह दृढ़ता से मानते हैं कि भारत में भारी बदलाव की जरूरत है और हर किसी को इस बदलाव को लाने के लिए एक राजनीतिक व्यवसायी बनना ही पड़ेगा।

राजेश समझते हैं कि भारत के युवाओं के लिए रोजगार पैदा करने हेतु, देश को संपन्न बनाने हेतु बिजनेस को किस तरह आगे बढ़ाना चाहिए। नयी दिशा के माध्यम से, वह व्यापारी के रूप में अपनी यात्रा को जारी रखेंगे, लेकिन यह व्यापार राष्ट्र निर्माण के लिए होगा। राजेश का मानना है कि भारत में बदलाव की जरूरत है और हर किसी को इस बदलाव के लिए एक राजनीतिक व्यवसायी बनना ही पड़ेगा।

नई दिशा के लिए राजेश की प्रेरणा को जानिए।

अगर आप मानते हैं कि गरीबी हमारा भाग्य नहीं है तो नई दिशा को ज्वाइन करें। साथ ही, अगर आपको लगता है सभी भारतीयों का परम कर्तव्य है कि भारत को सम्पन्न और आधुनिक राष्ट्र बनाये, तो नई दिशा के साथ जुड़ें।

अगर आपको हमारे सिद्धांतों पर भरोसा है तो इस परिवर्तन को लाने के लिए हमारा साथ दें और नई दिशा का हिस्सा बनें।

हमारा हिस्सा बने। वालंटियर बने

वोटर आईडी हमें विशिष्ट रूप से सदस्यों की पहचान करने और प्रत्येक निर्वाचन क्षेत्र में नई दिशा को समर्थन देने वाले लोगों के बारे में सटीक जानकारी देती है। सदस्यता पर कुल जानकारी, वास्तविक-समय में नई दिशा की वेबसाइट पर प्रदर्शित की जा सकती है।

हमारे पास आपका डेटा पूरी तरह से सुरक्षित रहेगा। डेटा को उच्च सुरक्षा के बीच रखा जाएगा। आपकी गोपनीयता हमारे लिए बहुत मायने रखती है और हम आश्वासन देते है कि इसका किसी भी प्रकार से दुरूपयोग नहीं किया जाएगा।

नई दिशा अभी ज्वाइन करें।

खनिज संपदा और अन्य प्राकृतिक संसाधनों के संदर्भ में भारत सबसे अमीर देशों में से एक है।

विश्लेषकों का अनुमान है कि देश की कुल खनिज संपत्ति 5011 लाख करोड़ रुपये से अधिक की होगी। वहीं नयी दिशा का अनुमान है कि भारत सरकार के अधिन तकरीबन 300लाख करोड़ रुपये की अप्रयुक्त सार्वजनिक भूमि है। यदि हम खनिज संपदा के कुल मूल्य का 20 प्रतिशत भी लें, यानि कि 1000 लाख रूपये तो हमारे पास कुल 1300 करोड़ रूपए का सार्वजनिक धन जमा हो जाएगा। यह राशि इतनी है कि अगले 50 वर्षों तक प्रत्येक परिवार को 1 लाख रुपए वार्षिक तौर पर देने के ले पर्याप्त है।

किसी भी सार्वजनिक संपत्ति का मुद्रीकरण कर आम जनता को देना, कानूनी तंत्र से ज्यादा राजनीतिक इच्छा का प्रश्न है। जहां तक कानूनी प्रावधानों और नीतियों की बात है तो, सार्वजनिक धन का मुद्रीकऱण करने में किसी भी निर्वाचित सरकार के कार्यकाल में मुश्किल नहीं होता है।

2016 में 'भारत के नागरिक पर्यावरण और उपभोक्ता अर्थव्यवस्था पर घरेलू सर्वेक्षण' के अनुसार, 99% भारतीय परिवारों के पास पहले से ही बैंक में खाते हैं। सभी के बैंक खातों को आधार से जोड़ने से,सार्वजनिक संपत्ति के वितऱण के समय हम व्यक्तिगत खाता धारकों की आसानी से पहचान कर सकते हैं।

हमारी सार्वजनिक धन मुद्रीकरण रिपोर्ट पढ़ें

यह कोई जुमला नहीं है। नयी दिशा आम जनता को सार्वजनित संपत्ति लौटाने की दिशा में काम करेगी, जो वर्तमान में सरकारी नियंत्रण में होने के कारण दुरूपयोग हो रहे हैं या यू ही खाली हैं। राजेश जैन एक सफल व्यवसायी हैं जो समृद्ध भारत के लिए अपने संसाधन और समय का निवेश कर रहे हैं। नयी दिशा की टीम ने इस मुद्दे पर व्यापक शोध किया है और सार्वजनिक संपत्ति को मुद्रीकृत कर इस आम जनता को वापस करने के संबंध में विस्तृत योजना है, इसलिए हम हवा में खाली वादे नहीं कर रहे हैं।

विवरण के लिए हमारी सार्वजनिक धन मुद्रीकरण रिपोर्ट पढ़ें

पिछले चुनाव में राजेश जैन द्वारा भाजपा और प्रधानमंत्री को दिए गए समर्थन पर कुछ लोगों का सवाल है कि क्या राजेश भाजपा के खिलाफ हो गए हैं।

राजेश जैन भाजपा सरकार, किसी भी राजनीतिक पार्टी और व्यक्ति विशेष के खिलाफ नहीं है। राजेश का कभी भी कोई नकारात्मक एजेंडा, राजनीतिक या अन्यथा कभी नहीं ऐसा था और न अब है। राजेश एक उद्यमी है, राजनेता नहीं।

नयी दिशा किसी भी विशेष राजनीतिक दल या व्यक्ति के खिलाफ लड़ कर, अपना समय बर्बाद करने में विश्वास नहीं करती है।

नयी दिशा का मुख्य व सकारात्मक लक्ष्य भारत देश को समृद्ध बनाना है। हम उन सबके साथ बिना किसी शर्त के काम करेंगे जो देश को समृद्धि के मार्ग पर ले जाना चाहते हैं। हम सिस्टम में बदलाव की दिशा में काम कर रहे हैं, साथ ही हम कई वर्षो से चली आ रही निष्क्रिय और अप्रचलित राजनीतिक प्रक्रिया में भी बदलाव लाना चाहते हैं। जो कार्य संभव है, उसमें सकारात्मक बदलाव, परिवर्तन, और सुधार लाना हमारा कार्य है।

जैसा कि राजेश ने हमेशा बताया है कि, हम कम से कम मोदी के खिलाफ तो बिलकुल नहीं है। राजेश का एजेंडा आज भी वही बना हुआ है, जैसा कि उन्होंने 2014 में श्री नरेंद्र मोदी को जीत दिलाने के लिए वर्षो तक सक्रिय रूप से कार्य किया था।

हालांकि हर कोई अलग अलग विषयों पर अलग सोच रखता है। हमारा मानना है कि आम जनता और अर्थव्यवस्था पर सरकार का नियत्रंण देश की प्रगति के लिए सही नहीं है। वे न केवल भारत में बल्कि उनकी हर कोशिशों में वे असफल रहे हैं। उन्हे अन्य माध्यमों से बदलने की जरूरत है।

नयी दिशा का मुख्य एजेंडा है- भारत को समृद्ध बनाना। हम उन सबके साथ है जो इस दिशा में काम करना चाहते हैं।